बेटी से यादगार मुलाकात में भावुक हुए जिला कलक्टर

बेटी से यादगार मुलाकात में भावुक हुए जिला कलक्टर

5 views
0

जयपुर – जिला कलक्टर  जगरूप सिंह यादव बुधवार को जब जिला कलेक्ट्रेट  के अपने चैम्बर में उनकी गोद ली हुई बेटी अमिता टांक से मिले तो दोनों तरफ भावनाओं का अतिरेक था। गांधी नगर बालिका विद्यालय में कक्षा 8 की छात्रा को तीन साल पहले तत्कालीन कलक्टर द्वारा आपकी बेटी योजना में गोद लिया गया था। जिला कलक्टर  यादव को जब उनकी इस बेटी के बारे में पता चला और यह पता चला कि वह दीपावली के त्योहार पर उनके पास नहीं होने से दुखी है तो तुरन्त बुलावा भेजा और अपने पास बुला लिया।
अमिता के उनके कक्ष में प्रवेश करते ही उन्होंने वात्सल्य भाव से उसके सिर पर हाथ फेरकर दुलार किया और उसके बारे में जानने की कोशिश की। उसकी पढाई, रूचियां, भविष्य के सपने हर चीज पर बात की। अमिता भी उन्हें प्रत्यक्ष पाकर काफी खुश थी और खासकर चाॅकलेट, मिठाई, नए कपडे़, फूलझड़ियां पाकर तो उसका बाल मन खिल ही उठा।  यादव ने अपने हाथ से उसे चाॅकलेट खिलाई।
अमिता ने जिला कलक्टर को बताया कि उसे सभी विषय पढना पसन्द है और वह बड़ी होकर प्रषासनिक अधिकारी बनना चाहती है, उसे नृत्य पसंद है और टीवी पर भी वही देखना पसन्द करती है हालांकि अभी होस्टल का टीवी खराब है।  यादव ने उसे प्रशासनिक अधिकारी बनने की तैयारी के लिए पढाई के गुर दिए। श्री यादव ने कहा कि पढाई बहुत जरूरी है और उसका सही तरीका भी। उन्होंने उसे पंचतंत्र एवं अन्य ज्ञानवर्द्धक साहित्य उपलब्ध कराने के अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने अमिता को डिबेट में हिस्सा लेने को कहा जिससे उसकी अभिव्यक्ति निखर सके। श्री यादव ने उसे जीवन में आगे बढने और खूब पढने का आषीर्वाद दिया।
इस मुलाकात में पूरे समय जितना खुश अमिता थी, उतने ही समय वात्सल्य का भाव  यादव की आंखों में नजर आ रहा था।  यादव ने कहा कि जिला प्रशासन से बंधे इस बेटी के सभी दायित्व पूरी तरह से निभाए जाएंगे एवं आने वाले जिला कलक्टर के लिए वे लिखित नोट छोड़ेंगे ताकि इस बेटी को फिर कभी उदास नहीं होना पडे़। उन्होंने बताया कि भले ही वे पहली बार अमिता से मिले हैं लेकिन आपकी बेटी योजना की प्रभारी अधिकारी एसडीएम नाॅर्थ श्रीमती ओम प्रभा हर समय अमिता के सम्पर्क में रहती हैं और अमिता भी हर सुख दुख में उन्हें ही याद करती है।

About author

Your email address will not be published. Required fields are marked *